This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+6 votes
77 views
shared in Shayari by

किसी रोज मिलो तो शिकायत भी की जाए।

तुझसे दूर रहकर बहुत दर्द सहा है हमने....

अबकी  बार मिलो तो इस दर्द की इनायत भी की जाए।

हर रोज दर्द देने के एक ही हथकंडे अपनाते हो आप...

अबकी बार मिलो तो कुछ नयी कयामत भी की जाए।

बड़ी तल्क हैं आपकी नजरें शोलें बनकर गिरती हैं

अबकी बार मिलो तो हिदायत भी दी जाए।

commented by
loved this one... :)
commented by
Thank you so much

Related posts

+4 votes
0 replies 64 views
+4 votes
0 replies 39 views
+3 votes
0 replies 37 views
Connect with us:
...