This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+5 votes
50 views
shared in Poem by
रोज़ रात को कमरे से

शोर सुनाई देता है

चीख पुकारे मचती है

रोना धोना होता है

आती आती नींद

मुझे जगाकर खुद सो जाती है

दिन भर की खट्टी मीठी यादें

अँधेरे में खो जाती है

लड़ने की वजह कम है

मौके ज्यादा है

पुरानी बातें कुरेदने का

इनमे माद्दा है

कुत्तो के भौकने की आवाज़

भी बेहतर लगती है

रिश्ते प्यार परिवार की बातें

सब झूठी लगती है

लड़ाई में जो भी शब्द बोले जाते है

दिल में दिमाग में घर कर जाते है

ये शब्द अगली लड़ाई के लिए

हथियार बन जाते है

मां को चिल्लाने का बहाना मिल जाता है

पापा को पीने का बहाना मिल जाता है

बस मुझे इन रातो के बाद

जीने का बहाना नहीं मिलता

दिन सुधार जायेंगे

ये वहम पालना छोड़ दिया

जीने का कोई नया बहाना

हर रात ढूंढना छोड़ दिया
commented by
NICE WELL WRITTEN....
commented by
thanks a lot....
commented by
Very well written..
commented by
thanks a lot sir...
commented by
!! Emotional..!!
such things happens with us too most of the time..!!!
commented by
thats true . everyone go through such phase in life on regular basis. thanks a lot...

Related posts

+2 votes
0 replies 57 views
+2 votes
0 replies 23 views
+4 votes
0 replies 18 views
+4 votes
0 replies 34 views
shared Jul 20, 2017 in Essay by Aakinchan jain
+2 votes
0 replies 44 views
+4 votes
0 replies 31 views
+9 votes
2 replies 78 views
+6 votes
0 replies 57 views
Connect with us:
...