This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+4 votes
74 views
shared in Ghazal by
माना गुनहगार है तेरे इश्क़ के, लेकिन,

हम से ही दुबारा मोहब्बत तो किजिए.

रह गयी है हसरतें, कई अधूरी मगर,

फिर किसी खिलौने की हसरत तो किजिए.

मंजिल मिल जाएगी, ठोकरें खाने के बाद,

हाथ उठाकर, ख़ुदा से इबादत तो किजिए.

कबसे कैद हैं तेरे यादों की क़फ़स में,

हमे रिहा करने की इनायत तो किजिए.

ना समझे कभी हम जज्बात तुम्हारे,

चलो हम से, इस बात की शिकायत तो किजिए.

बहोत कदूरत है ज़माने में मगर,

हमे ज़मीन से उठाने की रहमत तो किजिए.

माना गुनहगार है तेरे इश्क़ के, लेकिन,

हम से ही दुबारा मोहब्बत तो किजिए.
commented by
moved by
Masha Allah bohot khub
commented by
Bahot bahot shukriya Shagufta ji. Allah aapko barkat de.
commented by
NICE POST BRO... REALLY AWESOME
TALENT KOOT KOOT KE BHRA HAI...
commented by
Koi talent nahi hai bhai. Bas aisehi likh deta hun. Kuch humdard jo hai mere unhe achha lag jata hai.
commented by
!! aji bhut hi bdiyaaa
commented by
Aji, Bahot shukriya Ritika ji.
commented by
Thank you.

Related posts

+6 votes
0 replies 85 views
+4 votes
0 replies 34 views
+5 votes
2 replies 310 views
+5 votes
0 replies 78 views
+5 votes
0 replies 48 views
Connect with us:
...