This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+5 votes
27 views
shared in Short Story by
एक अनाथ बच्चा था " रोहन "....वो अनाथ आश्रम में रहता था।जब भी दिवाली आती वो बहुत खुश हो जाता था....और साल भर के जमा किए हुए अपने पैसे को,अपनी गुल्लक  तोड़ कर बाहर निकालता था।फिर उन पैसों से वो दीपक ,मोमबत्ती,लाईटे खरीदता था और आश्रम के पास की गरीबों की बस्ती में चल पड़ता बांटने के लिए।इस काम में आश्रम के संस्थापक और अन्य कर्मी भी उसकी मदद करते थे।
दिवाली के दिन वो शुभकामना देते हुए समान बंटता था।उसके अगले दिन(जब दिवाली खत्म हो जाती) तो वो सभी पुराने दीपको को अपने पास जमा कर लेता था।एक दिन जब आश्रम के संस्थापक ने इसका कारण पूछा,तो रोहन ने बताया कि वो " दुआओं " को इकट्ठा करता है ताकि अगले जन्म में वो अनाथ न पैदा ले और उसके पास भी उसके माँ-बाप हो।
ये सुनकर संस्थापक के आँखों से आंसू बहने लगे।

नोट------
हम बहुत किस्मत वाले है....क्योंकि हमारे पास हमारे माता-पिता हैं,उनका साथ है,उनका आशीर्वाद है।इसलिए अपने माँ-बाप का सम्मान हमें करना चाहिए और दूसरों में भी खुशियाँ बांटनी चाहिए।
Wish you a very HAPPY DIWALI
                             ------- Anugunja
commented by
Superb lines and Happy Diwali :)
commented by
Thank you so much....wish you a happy diwali
commented by
too good....

Happy Diwali :)

Related posts

+4 votes
0 replies 41 views
+4 votes
0 replies 48 views
+6 votes
0 replies 139 views
+4 votes
0 replies 39 views
+7 votes
1 reply 82 views
+5 votes
0 replies 30 views
+4 votes
0 replies 60 views
shared Apr 21, 2017 in Shayari by TheQuill
+4 votes
0 replies 60 views
+3 votes
0 replies 46 views
Connect with us:
...