This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+3 votes
52 views
shared in Poem by

कैसे कह दू, 

कि मुझसे मोहब्‍बत की थी उसने,

कैसे कह दू,

 मेरी वफाओं से वफा कि थी उसने ।

कैसे कह दू, 

दुआओं में मेरा नाम लि‍या था दि‍ल से,

कैसे कह दू, 

मुझसे दूर जाने को मजदबूरी नाम दि‍या था उसने ।।

कैसे, कैसे, कैसे कह दू कि‍ मुझसे  मोहब्‍बत की थी उसने...

वो मुझको बेवक्‍त फोन करना, उसका याद करना था

वो मुझको रात भर जगाना, उसका प्‍यार करना था

वो मेरे संग घूमना उसका, मेरे पास रहना था

कैसे कह दू,

ए-दोस्‍तो उसका इरादा साथ रहना था

कैसे कह दू, 

कि‍ मुझे बचपन की, सच्‍ची कहानी सुनाई थी उसने..

कैसे, कैसे, कैसे कह दू कि‍ मुझसे  मोहब्‍बत की थी उसने...

वो मेरी राह तकना उसका, मेरा इंतजार करना था

वो हर बार उसका तीन शब्‍द कहना, उसका इजहार करना था

वो दुसरो से छुप कर के देखना उसका, मुझसे नजरे मि‍लाना था

कैसे कह दू,

ए-दोस्‍तो, उसका इरादा दि‍ल मि‍लाना था

कैसे कह दू, 

कि‍ हर बार सहेलीयों से बातों में, मेरा जि‍क्र कि‍या था उसने

कैसे, कैसे, कैसे कह दू कि‍ मुझसे  मोहब्‍बत की थी उसने...

©अंशुल अग्रवाल©

commented by
superb Anshul :) Loved it!
commented by
Thank you Priya ji.
Aise to mai bahut kam likhta hu
So Help me and Give Me Some Suggestion
commented by
very well written... loved it...

Related posts

+3 votes
0 replies 54 views
+7 votes
0 replies 48 views
+2 votes
0 replies 27 views
+5 votes
0 replies 52 views
+2 votes
0 replies 47 views
+5 votes
0 replies 40 views
shared Dec 31, 2018 in Poem by Kagz de falsa
+5 votes
0 replies 42 views
+8 votes
0 replies 863 views
Connect with us:
...