This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+2 votes
37 views
shared in Poem by
बीत गई जब पूरी उम्र तो एहसास हुआ
इस इंसान को तो मैं पहचान ही नहीं पाया.....
अब तक था समझता जिसे करीबी अपना
उसका बदलता चेहरा उठाए पर्दा अपना.....
कब और कैसे गुजर गई परिवर्तन की ज्वलंत हवा
दिल पर मिलती रही दर्द भरी चोट की बेहिसाब चीख की सजा......
हम सोचते रह जाते और कारवां ओझल होता जाता
फिक्र करते हम रह जाते और इंसान बदलता रह जाता।अनुगुंजा
commented by
WOW Anugunja....keep writing

I just love reading your writings.....
commented by
Thank you so much....your good wishes and support always give me positive thinking.

Related posts

+4 votes
0 replies 35 views
+6 votes
0 replies 105 views
+5 votes
0 replies 35 views
+6 votes
0 replies 32 views
+3 votes
0 replies 54 views
+5 votes
0 replies 31 views
+3 votes
0 replies 43 views
+4 votes
0 replies 42 views
Connect with us:
...