This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+3 votes
81 views
shared in Ghazal by
आग बनकर वो ज़माने में चला करती है;
आये जो भी राह में दिल उसका धुआ करती है;

मत दे मुझको लम्बी उम्र की दुआ जोगी;
ज़िन्दगी हर पल अता नयी सजा करती है;

पत्थरों के शहर में पत्थर की हो गयी वो;
ज़ख्म हर इक के दामन में अता करती है;

जाने कितने ही ज़मीं पे बिछाये तारे;
मोहोब्बत चश्म-ए-पुराब ही अता करती है;

मेला है दो दिन का मिलता चलूँ तुमसे भी;
ज़िन्दगी भी भला किस्से वफ़ा करती है;

कुछ बहार भी तो लाये वो 'मजबूर' दिल में;
तीर-ए-नीमकश दिल के पार किया करती है;

गौरव मजबूर
commented by
Superb lines brother... :)
commented by
so...nice...
well composed
commented by
Thank you gurjyot...
commented by
Thank you Ritika...
commented by
too good....
commented by
thank you priya...

Related posts

+3 votes
0 replies 53 views
+6 votes
0 replies 43 views
+4 votes
0 replies 58 views
shared Jul 26, 2016 in Poem by Rucha
+5 votes
0 replies 88 views
+6 votes
0 replies 187 views
+3 votes
0 replies 40 views
+3 votes
0 replies 38 views
+4 votes
0 replies 26 views
+4 votes
0 replies 38 views
shared Jun 18, 2017 in Ghazal by Anil Sharma
Connect with us:
...