This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+6 votes
155 views
shared in Shayari by

बेहोश होकर देखिये

होश में आने के लिये

दिल का तडपना देखिये

मोहब्बत की हद पाने के लिये

जितनी तेरे पैमाने में है

उतनी पिला दे साकिया

सब्र कुछ तो चाहिये

महफिल से जाने के लिये

मरने कि हद तक जाईये

मोहब्बत आजमाने के लिये

जिनको जीना है वो जीलें

साहिल से लेहरें देख कर

हम तो पैदा ही हुऐ हैं

डूब जाने के लिये

उनका जीना और है

अपना जीना और है

अपनी जिदगी इश्क है

उनकी जमाने के लिये ।

commented by
wahh waahh
kyaa bat hai
commented by
Dhanyawaad
commented by
just amazing... liked it... :)
commented by
Thank you so much
commented by
superb....keep writing
commented by
वाह..गजब..
commented by
Bahut bahut dhanyawaad
commented by
thank u so much

Related posts

+7 votes
0 replies 81 views
+3 votes
0 replies 36 views
+4 votes
0 replies 34 views
+4 votes
0 replies 151 views
Connect with us:
...