This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+4 votes
39 views
shared in Shayari by
retagged by
मुशायरे मे शायरी सुनाने से कतराता नहीं मगर ,
मुश्किलें मेरी बढ़ाने आज,   
वह खुद महफिल मे आकर बैठे हैं।

अब कैसे पढूं कोई गज़ल,
मुझे फ़िक्र बहोत है,
के हर एक नज़्म मे उनका
ज़िक्र बहोत है।

पढ़ते पढ़ते उनका
कहीं नाम आ जाए,
भरी महफिल वह हमसे
बदनाम ना हो जाए।

ए खूदा एक दरखास्त है,
के मेरी हर नज़्म-ए-गजल मे उनसे
इशारों मे बात होती रहे,
महफिल रहे अंजान,
और दो दिलों की मुलाकात होती रहे।

जरा रहमत रखना खुदा मुझपे,
अगर ग़ज़ल मे इज़हार हो जाए,
वह ना करे कोई महफिल से पर्दा,
मुझसे मोहब्बत का इकरार हो जाए।
commented by
lovely piece
commented by
Thanks Priya ji

Related posts

+2 votes
0 replies 20 views
+5 votes
0 replies 49 views
+3 votes
0 replies 30 views
+3 votes
0 replies 33 views
+3 votes
0 replies 42 views
+3 votes
0 replies 22 views
Connect with us:
...