This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+5 votes
62 views
shared in Poem by
फिर से एक आंसू चला है

अपने वजूद की वजह ढूंढ़ने

अपने गिरने की सजा ढूंढ़ने

फिर से एक आंसू चला है

की उसका कुसूर था बस ये

की वो सबकी हंसी चाहता  था

खुद गिरकर भी हमेशा

सबकी सलामती, ख़ुशी चाहता था

पर जिंदगी को शायद ये मंजूर न था

कोई नेक दिल रह जाये जहाँ में

ये ख्वाब में भी  हो

ऐसा जहाँ कुबूल न था

फिर हर कोई आकर उसे

जिंदगी और उसके रिवाज बताता रहा

वो फिर भी खुद पर यकीन  रख

अच्छे रहने की वजह चाहता  रहा

पर वो पत्तर बन उसे मान न देते

जब तो गिरता तो हँसते या ध्यान न देते

वो आंसू टूटता रहा

खुद की अच्छे से छूटता रहा

फिर वो आंसू सूख जाने को है

इस दुनिया से एक अच्छाई जाने को है

कल वो आंसू न होगा, सब गिरे हुए बदतर होंगे

कोई इंसान न होगा, सब पत्थर होंगे
commented by
a mirror to future....!!
very well composed....
such a meaningful and really nice poem....
commented by
-------------
commented by
Thanks Ritika ..glad you liked it :)

@Alihanzala12... :)
commented by
superb....

Related posts

+5 votes
0 replies 42 views
+4 votes
0 replies 29 views
+3 votes
0 replies 43 views
+4 votes
0 replies 51 views
+1 vote
0 replies 22 views
Connect with us:
...