This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+2 votes
41 views
shared in Poem by
जाते-जाते इस दुनिया को मुस्कुराना सीखा जाना
रूठे-रूठे हुए तुम किसी को मना कर जिन्दगी निभा जाना.....
दोस्ती के लिए छोटी पड़ जाती एक उम्र हमारी दोस्तों
इसलिए मुस्कुराहट को ही अपनी और सबकी दोस्ती बना जाना......
जीवन का पैमाना है बस आधा ही भरा मेरे शुभचिंतको
इसलिए अपनी बेखौफ-मासूम हंसी से इसे पूरा भरते जाना.....
कहते है दोस्तों संग गुजरती सुरमयी शाम का पता ही नहीं चलता
एक उमंग की सुबह अपने दोस्तों के दामन में फैला देना।अनुगुंजा
commented by
nice concept.....!!
really nice

Related posts

+5 votes
0 replies 71 views
+4 votes
1 reply 60 views
+5 votes
0 replies 245 views
+4 votes
0 replies 20 views
+4 votes
0 replies 37 views
+3 votes
0 replies 22 views
Connect with us:
...