This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+2 votes
60 views
shared in Poem by
दिखावटी रिश्तो के बीच ऐसा
लगने लगा है
कि खुद के साथ जो रिश्ता है मेरा
वो भी एक दिखावा है
इन रिश्तो में जमी धूल
को क्या साफ़ करना
उस धूल भरे आईने में
जो अक्स दिखता है मेरा
वो भी तो एक दिखावा है.

घर में शोर ज्यादा है
बातें कम होती है
सुनकर ताने रोज़ रोज़ के
दीवारे भी रोती है
खुला है कमरा बहुत हवा है
फिर भी दम घुटता क्यूँ है
सारे बंधन टूट चुके है
फिर भी जाने ये रिश्ता क्यूँ है.

कहने को घर में रहते
और पूरा परिवार है
फिर भी लगता हर ज़र्रा खोखला
हर कोई यहाँ बीमार है.

Related posts

+6 votes
0 replies 98 views
+4 votes
0 replies 30 views
+5 votes
0 replies 66 views
+7 votes
0 replies 35 views
shared Feb 23, 2016 in Poem by Snigdha Jha
+6 votes
0 replies 41 views
+3 votes
0 replies 22 views
+5 votes
0 replies 188 views
+4 votes
0 replies 29 views
+4 votes
0 replies 65 views
Connect with us:
...