This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+5 votes
77 views
shared in Poem by
2007 से 2011   
   
एक रूम, चार यार   
कभी झगडा, कभी प्यार   
ढेर सारी बातें   
कहने को लम्बी लम्बी रातें   
नींद बहुत आती थी तब   
सो एक बात अधुरी रह गयी   
यारों संग बितानी थी जो   
वो रात अधुरी रह गयी   
   
2011 से 2013   
   
पहला किसी और का हुआ (Raju got married)   
दूसरा दूसरी ओर का (Naveen got Transferred)   
मैं कहीं का ना रहा ( Remain alone)   
चौथा कहीं ओर का (Jasbir went to Nashik)   
एक-एक करके सब गये   
ज़िन्दगी की जद्दोजहद में लग गये   
दोस्ती वक्त के दरया में बह गयी   
वो रात फिर से तनहा रह गयी   
   
2013 से अब तक   
   
एक मैं,चार दीवार   
ना झगडा, ना प्यार   
ढेर सारी यादें   
सोने को लम्बी लम्बी रातें   
नींद नही आती है अब   
सो एक बात अभी भी बाकी है   
यारों संग बितानी थी जो   
वो रात अभी भी बाकी है
commented by
very well penned...
commented by
Thanx...Paa Ji...
commented by
wow....just amazing
commented by
Thanks dear....

Related posts

+3 votes
0 replies 40 views
+2 votes
0 replies 23 views
+2 votes
0 replies 27 views
+3 votes
0 replies 43 views
+3 votes
0 replies 32 views
+4 votes
0 replies 54 views
+5 votes
0 replies 72 views
+2 votes
0 replies 25 views
+5 votes
0 replies 33 views
Connect with us:
...