This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+4 votes
317 views
shared in Ghazal by
retagged by
mat poochh mujhse ae zindagi mujhe kya chahiye
main keh bhi doo agar tujhe tu kuch kar na payegi

kyu zikr ho uska kyu zazbaton se  khel ho
jism bhale mil jaye par Dil se na mel ho
aisi hi lakh hasratein Jo tu jar na payegi
mat poochh mujhse ae zindagi mujhe kya chahiye
main keh bhi doo agar tujhe tu kuch kar na payegi

chal ek baat hi bata mujhe tera kis pe jor hai
yu apni zindagi ka Malik main, par ye baat aur hai..
Main bandishon me jakda Hua, tujhe mouz chahiye
main moat bhi chahu agar to tu Mar na payegi
mat poochh mujhse ae zindagi mujhe kya chahiye
main keh bhi doo agar tujhe tu kuch kar na payegi

lakh chah kar bhi main use mil nahi paun
likha Jo lakiron me khuda ne badal nahi paun
Maine bhi vaada kiya tha kabhi na milne ka usse
main minnate karu to bhi tu vaade se mukar na payegi
mat poochh mujhse ae zindagi mujhe kya chahiye
main keh bhi doo agar tujhe tu kuch kar na payegi

Shok SE jeene ka yu mujhe koi shok to nahi
badi bemurwat hai ye zindagi koi shokh to nahi
chain se jeene ke liye bas khushiyan hi chahiye
Gam musalsal hai magar khushiyan mukararr na payegi
mat poochh mujhse ae zindagi mujhe kya chahiye
main keh bhi doo agar tujhe tu kuch kar na payegi

kon bas paye gar kismat me ujdna hi likha
na rain basera koi mera bas chalna hi likha
na manzil hi apni koi, na koi rahguzar hai
lakh chahe to bhi tu yahan basar kar na payegi
mat poochh mujhse ae zindagi mujhe kya chahiye
main keh bhi doo agar tujhe tu kuch kar na payegi

kataar seene me gadi aur bada dard ho raha
daanton me cheekh daboch kar main bada mard ho raha
is dard-e-Ishq ki "Anil" koi dawa to nahi
kitna hi waqt le ae zindagi tu ye zakhm bhar na payegi
to kyu poochhe mujhse ae zindagi mujhe kya chahiye
main keh bhi doo agar tujhe tu kuch kar na payegi

मत पूछ मुझसे ए ज़िन्दगी मुझे क्या चाहिये ?
मैं कह भी दूं अगर तुझे तू कुछ कर ना पायेगी

क्यूं ज़िक्र हो उसका क्यूं ज़ज्बातों से ख़ेल हो
दो जिस्म भले मिलें पर दिल से ना मेल हो
ऐसी ही हज़ार ख्वाहिशें जो तू जर न पायेगी
मत पूछ मुझसे ए ज़िन्दगी मुझे क्या चाहिये ?
मैं कह भी दूं अगर तुझे तू कुछ कर ना पायेगी

चल एक बात ही बता मुझे तेरा किस पे ज़ोर है ?
यूं अपनी ज़िन्दगी का मालिक मैं पर ये बात और है
मैं बन्दिशों में जकडा हुआ तुझे मौज चाहिये
मैं मौत भी चाहूं अगर तो तू मर न पायेगी
मत पूछ मुझसे ए ज़िन्दगी मुझे क्या चाहिये ?
मैं कह भी दूं अगर तुझे तू कुछ कर ना पायेगी

लाख़ चाह कर भी मैं उससे मिल नही पांऊ
लिखा जो लकीरों में ख़ुदा ने बदल नही पांऊ
मैंने भी वादा किया था कभी न मिलने का उससे
मैं मिन्नतें करूं तो भी तू वादे से मुकर न पायेगी
मत पूछ मुझसे ए ज़िन्दगी मुझे क्या चाहिये ?
मैं कह भी दूं अगर तुझे तू कुछ कर ना पायेगी

शौक से जीने मुझे यूं कोई शौक तो नही
बेमुरव्वत है ये ज़िन्दगी कोई शौख़ तो नही
चैन से जीने के लिये बस खुशियां ही चाहिये
ग़म मुसल्सल हैं मगर ख़ुशियां मुकर्रर न पायेगी
मत पूछ मुझसे ए ज़िन्दगी मुझे क्या चाहिये ?
मैं कह भी दूं अगर तुझे तू कुछ कर ना पायेगी

कौन बस पाये ग़र किस्मत में उजडना ही लिखा
न कोई रैन बसेरा मेरा बस चलना ही लिखा
न मज़िल ही अपनी कोई न कोई राहग़ुजर है
लाख़ चाहे भी तो तू यहां बसर कर न पायेगी
मत पूछ मुझसे ए ज़िन्दगी मुझे क्या चाहिये ?
मैं कह भी दूं अगर तुझे तू कुछ कर ना पायेगी

कटार सीने में गडी और बडा दर्द हो रहा
दांतों में चीख़ दबोच कर मैं बडा मर्द हो रहा
इस दर्द ए इश्क की अनिल कोई दवा तो नही
कितना ही वक्त ले ए ज़िन्दगी तू ये ज़ख्म भर न पायेगी
फिर क्यूं पूछे मुझसे बार बार मुझे क्या चाहिये ?
मैं कह भी दूं अगर तुझे तू कुछ कर ना पायेगी
commented by
superb ghazal... very nice...
commented by
Thanks...Singh Saab..
commented by
loved it....superb
commented by
Thanks...Ms. Batra
commented by
Anil.......Lajwab...
commented by
Thanks..Anshul..

Related posts

+4 votes
1 reply 55 views
+3 votes
0 replies 21 views
+2 votes
1 reply 74 views
+5 votes
0 replies 64 views
+2 votes
0 replies 17 views
+4 votes
0 replies 38 views
+8 votes
0 replies 94 views
+8 votes
0 replies 53 views
+6 votes
0 replies 41 views
Connect with us:
...