This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+5 votes
27 views
shared in Poem by
धक धक धक धक
धड़कता है यह दिल,
मच मच मच मच
मचलता है यह मन;
जब जब जब जब
देखता हूँ उन्हें,
तब तब तब तब
डरता हूँ मैं।

क्या क्या क्या क्या
सोचेंगे वो क्या?
हस हस हस हस
हसेंगे वो क्या?
घूर घूर घूर घूर
उनकी घूरियत,
डर डर डर डर
डराती है मुझे।

पर पर पर पर
कभी न कभी,
कह कह कह कह
कहीं न कहीं;
लड़ लड़ लड़ लड़
लड़ना है मुझे,
जीत जीत जीत जीत
जीतना है मुझे।

तो तो तो तो
आज क्यों नहीं,
अब अब अब अब
अभी क्यों नहीं;
चल चल चल चल
दो हाथ हो जाए,
फस फस फस फस
फैसला हो जाए।
commented by
very well penned...
commented by
Wah re wah....
commented by
are waahhh kyaa bat hai !!!
commented by
Thanks gurjyotji
Shukriya sheela ji and ritikaji
commented by
great piece....
commented by
Thanks mam

Related posts

+3 votes
0 replies 27 views
shared Jul 23, 2018 in Poem by Nick Armbrister
+5 votes
0 replies 16 views
+6 votes
0 replies 17 views
shared Feb 1, 2016 in Poem by Hasmukh Mehta
+4 votes
0 replies 12 views
+3 votes
0 replies 12 views
+7 votes
0 replies 54 views
+4 votes
0 replies 15 views
+4 votes
0 replies 52 views
+5 votes
0 replies 35 views
+4 votes
0 replies 68 views
Connect with us:
...