This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+4 votes
44 views
shared in Poem by
बहुत दर्दनाक होता वक्त का कहर
इसकी सुनामी लाती तबाही लहर....
बस एक पल सबकुछ बिखर है जाता
लाख समेटो पर चौखट नहीं है बच पाता.....
सिक्के का दूसरा पहलू होता हमेशा दुखद
इसलिए मत उछालो,देखो दृश्य सुखद....
जो है खाली आधा गिलास,उसे करो अनदेखा
नहीं तो जिन्दगी रह जाएगी आंसू का लेखा।
अनुगुंजा
commented by
so nice
bhut hi pyari sachii me...
loved it....!!!
dil chu liya
commented by
Wow.... So nice extremely good!!!
commented by
बहुत बहुत धन्यवाद...मैंने तो बस सच्चाई को एक आकार देने की कोशिश की है।

Related posts

+3 votes
0 replies 44 views
+5 votes
0 replies 35 views
+3 votes
0 replies 43 views
+4 votes
0 replies 57 views
+6 votes
0 replies 47 views
+3 votes
0 replies 31 views
+4 votes
0 replies 36 views
+2 votes
0 replies 53 views
Connect with us:
...