This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+5 votes
110 views
shared in Poem by
औरतें

घरो में औरतें
दर्शको सी होती है,
वो देखती हैं, सुनती हैं,
जिंदगी को ठेलती हैं,
बाजारों में औरतें
ईश्तिहारो सी होती है,
सजी- संवरी चलती हुई,
हर नजर को झेलती है,
किताबो में औरतें
गज़ल जैसी होती है,
कलम की लिखावट में
वो मिटती और रचती है,
सड़क पर औरतें
शिकार जैसी होती है
किसी की वहशी भूख का
वो निवाला बनती है,
औरतें कहां कभी औरतों सी होती है,
हां, ख्यालो में वो खुद के,
वो औरतें ही होती है.

© हरदीप सबरवाल.
commented by
soooo....gudd
reallly nice
commented by
Thank you so much Ritika
commented by
बहुत बढ़िया रचना
commented by
bahut khoob Hardeep Sir....badiya
commented by
Thanks a lot Ranjan Sir
commented by
Thank you so much Priya

Related posts

+7 votes
0 replies 54 views
+5 votes
0 replies 57 views
+9 votes
0 replies 213 views
+4 votes
0 replies 42 views
+4 votes
0 replies 62 views
+4 votes
0 replies 37 views
+10 votes
0 replies 39 views
+3 votes
0 replies 41 views
Connect with us:
...