This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+3 votes
76 views
shared in Poem by
होती सबको शिकायते थोड़ी थोड़ी
बयाँ ए एहसास कर जाता इनको पूरी....
रूठने की अदा होती है बहुत निराली
जीवन का पैमाना रहता इनके बिना खाली....
जुबां में फैले स्वाद की तरह होते है रिश्ते
कभी कड़वाहट कभी मिठास मिलते रहते....
---------अनुगुंजा------
नोट-- मेरी लघु फिल्म को यू ट्यूब पर जरूर देखे।मेरी फिल्म सामाजिक,पारिवारिक और देश की मुख्य समस्या पर आधारित होती है।
commented by
I liked it....good
commented by
just amazing....lovey linesss..."adhbhutt"
commented by
nicely written...
commented by
Thank you so much

Related posts

+4 votes
0 replies 49 views
+3 votes
0 replies 22 views
+6 votes
0 replies 83 views
+3 votes
0 replies 17 views
+2 votes
0 replies 17 views
+5 votes
0 replies 34 views
+8 votes
0 replies 33 views
+5 votes
0 replies 33 views
Connect with us:
...