This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+3 votes
44 views
shared in Poem by

तेरा चेहरा एक अक्स 
एक याद बन जाये
तेरा मिलना कोई बरसो 
पुरानी बात बन जाये
इससे पहले कि वक़्त की
हवा हमें ले उड़े
और दीवार खड़ी हो जाये वहां
जो तेरी खोज में हम मुड़े

इससे पहले कि दर्द
आँखों के रस्ते
दिल तक आ पहुंचे 
और दुनिया की बेड़ियाँ 
मुझे तुझ से दूर
बहुत दूर खींचे
और तड़पकर रूह मेरी
बेजान हो जाये
तेरे इंतज़ार में सदियाँ भी
बेज़ार हो जाये 

इससे पहले कि खुदा हम से
हम खुदा से रुसवा हो जाये
आ एक बार फिर 
उन गलियों की सैर पर
जहाँ पहली बार हमारी 
हसरतो ने जन्म लिया 
आ डूब चल इन आँखों में 
इन बाहों में बह जाने दे 

एक बार फिर से
इन दिलो को मिल जाने दे
इससे पहले कि वक़्त के दरमियान
हमारी विदाई आ जाये
आ चल इश्क में ऐसे पड़े
कि इश्क में गहरायी आ जाये

commented by
its a lovely piece....

Related posts

+3 votes
0 replies 54 views
+3 votes
0 replies 26 views
+3 votes
0 replies 56 views
+6 votes
0 replies 29 views
+5 votes
0 replies 36 views
+3 votes
0 replies 11 views
+3 votes
0 replies 79 views
+6 votes
0 replies 49 views
Connect with us:
...