This website is in read only mode. To be the part of New YoAlfaaz community, click the button.
+4 votes
52 views
shared in Poem by

मेरी आँखों की कश्ती के राही तुम हो 
कोरे कागज़ को भर दे वो स्याही तुम हो
तुम हो मेरे दिन का चैन रातो का अफसाना
काफिर को भी बदल दे वो खुदाई तुम हो
कडकडाती ठण्ड की रजाई तुम हो
प्यासे को पानी की सुराही तुम हो
अँधेरे कमरे में दीये की लौ की तरह
दिल को मीठा कर दे वो मिठाई तुम हो

जाने क्या जुड़ाव है जाने क्या लगाव है
हर ख्वाब पर भारी एक तुम्हारा ख्वाब है 
ये आकर्षण नहीं उन्माद नहीं न ये महज़ छलावा है
न मिथ्या न झूठ-फरेब न ये महज दिखावा है
एक चाहत है साथ रहने की
बिन कुछ कहे सब कहने की
हाथ पकड़कर साथ चलने की
व्यथित हुआ मन इतना जब आया
तुमसे बिछुड़ने का सवाल
और फिर अपने मन से
हमने पूछा ये सवाल 

अक्षरों में ख़ामोशी है
चाहकर भी कुछ कहा नहीं जाता
तुम्हारे मन में मेरे लिए 
क्या भाव है- अब रहा नहीं जाता
मेरी बेचैनी का इलाज अब तुम्हारे पास है
कह दो क्या ये प्रेम है या और कोई एहसास है.............

commented by
ohhhh wow...
thats so sweet n loving...
just loved it....!!!!
:) touched
commented by
bahut bahut shukriya aapka!!
commented by
Sir likha to Gajab hai but
jis se hum kahte
ab wo hi saath nahi hai
commented by
लाजवाब...... बेहतरीन..... इजहार...
commented by
bahut dhanyawad anshul ji...

Related posts

+8 votes
0 replies 41 views
+3 votes
0 replies 52 views
+6 votes
0 replies 32 views
+4 votes
0 replies 39 views
+12 votes
0 replies 87 views
+4 votes
0 replies 37 views
+5 votes
0 replies 34 views
Connect with us:
...